DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Thursday, June 10, 2021

बच्चे की उम्र के मुताबिक क्लास में दाखिला दिलाएगी 'शारदा'

बच्चे की उम्र के मुताबिक क्लास में दाखिला दिलाएगी 'शारदा'

प्रवेश दिलाएगा शारदा पोर्टल, स्कूल न जाने अथवा बीच में पढ़ाई छोड़ देने वाले बच्चों के लिए सुविधा


प्रयागराज। बेसिक शिक्षा विभाग जिले में स्कूल नहीं जाने वाले 14 साल तक के बच्चों को शारदा पोर्टल के जरिए स्कूलों में प्रवेश दिलाया जाएगा। स्कूलों में प्रवेश के साथ इन बच्चों को विशेष पाठ्यक्रम के आधार पर लिखना और पढ़ना सिखाने के साथ उनकी कक्षा तक का पाठ्यक्रम पूरा कराया जाएगा। 

वंचित बच्चों को चिन्हित कर परिषदीय विद्यालयों में उनकी आयु के अनुसार प्रजेश दिलाया जाएगा। बच्चों को किस स्कूल में कौन सी कक्षा में प्रवेश कराया गया, इस बारे में शारदा पोर्टल पर जानकारी अपलोड करनी होगी। इस बारे में बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से प्रदेश के सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को प्रवेश की जानकारी भेजी गई है। 

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी संजय कुशवाहा का कहना हे कि पढ़ाई बीच में छोड़ने बाले अथवा कभी स्कूल नहीं जाने वाले बच्चों को शारदा कार्यक्रम के तहत उनकी उम्र के अनुसार कक्षा में प्रवेश की व्यवस्था होगी। ऐसे छात्रों को पहले विशेष कक्षाओं में प्रवेश दिलाकर उन्हें उनकी कक्षा के अनुरूप ढाला जाएगा। इन बच्चों को विशेष पाठ्यक्रम के आधार पर लिखना और पढ़ना सिखाने के साथ उनकी कक्षा तक का पाठ्यक्रम पूरा कराया जाएगा। इन बच्चों की अतिरिक्त कक्षाएं भी चलेंगी। उनका कहना है कि जब तक बच्चा पढ़ना और लिखना नहीं सीख पाता तब तक पहले मौखिक रूप से ही याद कराया जाएगा। 

शिक्षकों का कहना है कि बच्चा यदि उम्र में बड़ा है तो वह बच्चों की उम्र कितनी भी हो, लेकिन उसे कक्षा एक से ही पढ़ाई शुरू करनी होगी, यह बच्चा जल्दी हो पढ़ना-लिखना सीख जाएगा। बेसिक शिक्षा अधिकारी ने बताया कि इन बच्चों का प्रवेश स्कूल खुलते ही करा दिया जाएगा।



गोरखपुर। जिले में शिक्षा से वंचित बच्चों को चिहिनत कर परिषदीय विद्यालयों में उप्र के हिसाब से उन्हें दाखिला दिलाया जाएगा। साथ ही चिहिनत बच्चों को किस स्कूल में कौन सी कक्षा में दाखिला कराया गया है, इसका रिकॉर्ड शारदा पोर्टल पर
अपलोड करना होगा। बेसिक शिक्षा विभाग ने प्रवेश की प्रक्रिया में बदलाव की जानकारी सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को भेज दी है।


जिन बच्चों को शारदा कार्यक्रम के अंतर्गत उम्र के हिसाब से दाखिला मिलेगा उनकी शिक्षा का स्तर कक्षा के अनुरूप लाने के लिए विशेष कक्षाओं में पढ़ाई होगी। जहां उन्हें विशेष पाठ्यक्रम के आधार पर लिखना और पढ़ना सिखाने के साथ उनकी कक्षा तक का पाठ्यक्रम पूरा कराया जाएगा।  इसके अलावा इन बच्चों की अतिरिक्त कक्षाएं भी लगेंगी। जब तक बच्चा पढ़ना और लिखना नहीं सीख पाता तब तक पहले मौखिक रूप से ही याद कराया जाएगा और विभिन्‍न विषयों के चेप्टर से संबंधित जानकारी कंठस्थ कराई जाएगी। शिक्षकों का कहना है कि बच्चा यदि उम्र में बड़ा है तो वह बच्चों की उम्र कितनी भी हो, लेकिन उसे कक्षा एक से ही पढ़ाई शुरू जल्दी ही पढ़ना-लिखना सीख पाएगा।


आउट ऑफ स्कूल बच्चों के हिसाब से दाखिला कराया जाएगा। बच्चों की शिक्षा उनकी कक्षा के स्तर तक लाने के लिए विशेष कक्षाओं का संचालन होगा। चिहिनित बच्चों का रिकॉर्ड शारदा पोर्टल पर भी अपलोड करना होगा। इसके लिए समग्र शिक्षा 2 हम, द्वारा आदेश जारी किए गए हैं। स्कूल खुलते ही इसे लागू किया जाएगा। -बीएन सिंह, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी

No comments:
Write comments