DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Wednesday, June 23, 2021

यूपी में स्कूल खोलने की तैयारी, 9 से 12 तक की कक्षाएं हो सकती हैं शुरू

यूपी में स्कूल खोलने की तैयारी, 9 से 12 तक की कक्षाएं हो सकती हैं शुरू

यूपी बोर्ड के नौ से 12 तक स्कूलों को खोलने की कवायद


कोरोना संक्रमण के कम होते ही राज्य सरकार ने स्कूल खोलने की तैयारियां शुरू कर दी हैं। कक्षा 9 से 12 तक की कक्षाएं चलाने के लिए अभिभावकों के मत लिए जा रहे हैं। यूपी बोर्ड के सचिव दिव्यकांत शुक्ल ने सभी जिला विद्यालय निरीक्षकों को पत्र लिख कर कहा है कि अभिभावकों से सहमति पत्र लेकर इसकी पूरी रिपोर्ट दी जाए। राज्य सरकार ने कोरोना संक्रमण बढ़ने के कारण मार्च में ही स्कूल बंद कर दिए थे। 


इससे पहले पिछले वर्ष मार्च में लॉकडाउन के कारण स्कूल बंद किए गए थे और कोरोना संक्रमण कम होने पर अक्तूबर में कक्षा 9 से 12 तक के स्कूल खोले गए थे। वहीं जूनियर व प्राइमरी स्कूल इस वर्ष फरवरी व मार्च में खोले गए थे लेकिन कोरोना संक्रमण के कारण स्कूल फिर बन्द कर दिए गए थे। यूपी बोर्ड ने हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की परीक्षा भी निरस्त कर दी है। 

स्कूलों में पिछले वर्ष से ही ऑनलाइन पढ़ाई कराई जा रही है लेकिन जिन बच्चों के पास स्मार्ट फोन नहीं है, वे पिछड़ रहे हैं। वहीं गांव- कस्बों आदि में स्कूल न खुलने के कारण फीस नहीं आ रही है, इस कारण शिक्षकों के वेतन के भी लाले हैं। निजी स्कूल प्रबंधन कुछ शर्तों के साथ स्कूल खोलने की लगातार मांग कर रहे हैं।


गोरखपुर: कोरोना संक्रमण कम होते ही नौ से 12वीं तक के माध्यमिक स्कूलों को खोलने की कवायद शुरू हो गई है। यूपी बोर्ड के सचिव ने सभी संयुक्त शिक्षा निदेशकों को पत्र जारी कर अभिभावकों से सहमति पत्र लेकर तय प्रारूप पर 23 जून को शाम चार बजे तक सूचना उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है, ताकि उसे शासन के समक्ष प्रस्तुत किया जा सके।

कोरोना के कारण मार्च से ही स्कूल बंद हैं। बोर्ड परीक्षाएं रद हो चुकी हैं। वर्तमान में स्कूलों में आनलाइन कक्षाएं संचालित की जा रही हैं। शिक्षक वाट्सएप ग्रुपों के जरिये विद्यार्थियों को पढ़ा रहे हैं। हालांकि शासन की सख्ती के बाद भी जिले के 50 फीसद से अधिक विद्यार्थी आनलाइन पढ़ाई से नहीं जुड़ सके हैं। इसी को देखते हुए बोर्ड ने कक्षा नौ से बारह के स्कूलों को खोल आफलाइन पढ़ाई कराने की दिशा में पहल शुरू कर दी है। जिससे कोरोनाकाल में बाधित हुई शैक्षिक गतिविधियां फिर से पटरी पर लौट सकें।

■ जेडी के जरिये अभिभावकों से सहमति पत्र के साथ मांगी सूचना

■ आज शाम तक तय प्रारूप पर भेजी जानी है जिले से सूचना

देनी होगी यह सूचना

बोर्ड ने स्कूल खोलने को लेकर तय प्रारूप पर जो सूचनाएं मांगी हैं, उनमें कुल विद्यालयों की संख्या के साथ-साथ कक्षा नौ से 12 तक के कक्षावार अध्ययनरत विद्यार्थियों की संख्या तथा स्कूल खोले जाने को लेकर सहमति पत्र आदि शामिल हैं।

प्रधानाचार्यों को कक्षा नौ से 12 तक के स्कूलों को खोलने को लेकर अभिभावकों से सहमति पत्र प्राप्त कर उपलब्ध कराने का निर्देश दे दिया गया है, ताकि उसे समय से बोर्ड को प्रेषित की जा सके। -योगेंद्र नाथ सिंह, संयुक्त शिक्षा निदेशक गोरखपुर मंडल

No comments:
Write comments