DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Saturday, August 13, 2022

1060 सरकारी स्कूलों में लगेगी स्मार्ट क्लासेस, 217 राजकीय विद्यालयों में विज्ञान लैब, 1070 स्कूलों को मिलेगा सोलर पैनल का तोहफा

1060 सरकारी स्कूलों में लगेगी स्मार्ट क्लासेस, 217 राजकीय विद्यालयों में विज्ञान लैब, 1070 स्कूलों को मिलेगा सोलर पैनल का तोहफा


यूपी के 1060 राजकीय विद्यालयों में स्‍मार्ट क्‍लास लगेंगी। छात्र-छात्राओं को पठन-पाठन की बेहतर सुविधा देने के मकसद से योगी आदित्‍यनाथ सरकार की ओर से यह पहल की गई है। माध्यमिक शिक्षा विभाग की दो अगस्त को हुई बैठक में स्कूलों में छह महीने में स्मार्ट क्लास स्थापित करने के निर्देश दिए गए हैं। पूर्व में एक फर्म को टेंडर दिया गया था जो कि निरस्त हो गया है। अब नए सिरे से टेंडर की कार्रवाई की जा रही है।


217 राजकीय विद्यालयों में विज्ञान लैब भी बनेंगी: बच्चों में विज्ञान के प्रति अभिरुचि पैदा करने के उद्देश्य से 217 राजकीय इंटर कॉलेजों में विज्ञान लैब भी स्थापित होगी। प्रयागराज में इसके लिए राजकीय इंटर कॉलेज शंकरगढ़, नारी-बारी, धनुपुर, हंडिया और फूलपुर को चुना गया है। राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान का काम देख रहे विनय ने बताया कि इन पांच स्कूलों में कुल नौ लैब स्थापित होंगी। प्रत्येक लैब के लिए 14.5 लाख रुपये का बजट मिला है। 13.5 लाख रुपये से लैब का निर्माण और एक लाख रुपये से उपकरण लिए जाएंगे।


1070 स्कूलों को सोलर पैनल को तोहफा: सरकार ने स्कूलों को हरित ऊर्जा से जगमग करने का निर्णय लिया है। कुल 1070 स्कूलों में सोलर पैनल लगाए जाएंगे। इसके लिए टेंडर हो चुका है। इस संबंध में उत्तर प्रदेश नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा विकास अभिकरण (नेडा) से पत्राचार चल रहा है।



1060 राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में लगेंगी स्मार्ट क्लास

■ अगले छह माह में स्कूलों में पढ़ाई होगी हाईटेक

■ पठन-पाठन की बेहतर सुविधा देने का है मकसद


प्रयागराज  । प्रदेशभर के 1060 राजकीय विद्यालयों में स्मार्ट क्लास लगेंगी। छात्र - छात्राओं को पठन-पाठन की बेहतर सुविधा देने के मकसद से यह पहल की गई है। माध्यमिक शिक्षा विभाग की दो अगस्त को हुई बैठक में स्कूलों में छह महीने में स्मार्ट क्लास स्थापित करने के निर्देश दिए गए हैं। पूर्व में एक फर्म को टेंडर दिया गया था जो कि निरस्त हो गया है। अब नए सिरे से टेंडर की कार्रवाई की जा रही है।


बच्चों में विज्ञान की अभिरुचि पैदा करने के लिए 217 राजकीय इंटर कॉलेजों में विज्ञान लैब भी स्थापित होगी। राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान का काम देख रहे विनय ने बताया कि इन पांच स्कूलों में कुल नौ लैब स्थापित होंगी। प्रत्येक लैब के लिए 14.5 लाख रुपये का बजट मिला है।



2500 राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में स्मार्ट क्लास, कॅरिअर गाइडेंस के लिए 'पंख' पोर्टल तैयार


लखनऊ। प्रदेश के सभी राजकीय माध्यमिक विद्यालयों को वाईफाई सुविधा से लैस करने के बाद यहां स्मार्ट क्लासेज शुरू करने की भी तैयारी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशानुसार 2500 विद्यालयों में स्मार्ट क्लासेज की स्थापना हो रही है।


पहले चरण में 1060 विद्यालयों में स्मार्ट क्लास शुरू की जाएंगी। इसके लिए छह माह का वक्त दिया गया है। शासन ने तेजी से काम करने के निर्देश दिए हैं। इसमें किसी भी प्रकार की ढिलाई बर्दाश्त नहीं की जाएगी।स्मार्ट क्लासेज तैयार करने की जिम्मेदारी अपट्रॉन पावरट्रॉनिक्स को दी गई है। कंपनी की ओर से टेंडर प्रक्रिया की जा रही है। 


अधिकारियों के अनुसार प्रदेश में पहले चरण में 1060 विद्यालयों को चुना गया है। इनमें स्मार्ट क्लास शुरू करने के लिए प्रति विद्यालय लगभग 2 लाख 40 हजार रुपये खर्च किए जाएंगे। स्मार्ट क्लासेज शुरू होने से बच्चों को पढ़ाई के लिए पर्याप्त ई-कंटेंट उपलब्ध होगा। विभिन्न जिलों में अलग-अलग 1070 विद्यालयों में सोलर पैनल भी लगेंगे।


आधुनिक ढंग से होगी पढ़ाई 

अपर मुख्य सचिव माध्यमिक आराधना शुक्ला के अनुसार स्मार्ट क्लास शुरू होने से माध्यमिक विद्यालयों के बच्चे भी नए तौर-तरीके से पढ़ाई कर सकेंगे। इसके लिए सभी विद्यार्थियों के ई-मेल बनवाए गए हैं। सभी राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में वाईफाई की सुविधा उपलब्ध हो गई है।


बच्चों को कॅरिअर गाइडेंस के लिए 'पंख' पोर्टल तैयार किया गया है। यूपी बोर्ड के विद्यार्थी 10वीं व 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद 'पंख' पोर्टल से भविष्य संवारने की सलाह ले सकेंगे।

No comments:
Write comments