DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Friday, August 19, 2022

तबादला उस विद्यालय में, जो है ही नहीं, विभाग की गलती से GIC शिक्षक परेशान

तबादला उस विद्यालय में, जो है ही नहीं,  विभाग की गलती से GIC शिक्षक परेशान, जुलाई का वेतन अटका

शिक्षा निदेशालय प्रयागराज से लखनऊ तक की दौड़ का परिणाम शून्य


 प्रयागराज : राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में छात्र संख्या को देखते हुए शिक्षकों का समायोजन कर विभाग शिक्षण व्यवस्था सुधारना चाहता है, लेकिन विभागीय गड़बड़ी से नित नए प्रश्न खड़े हो रहे हैं। एक तरफ जीआइसी प्रयागराज से सामाजिक विज्ञान में तीन शिक्षिका को सरप्लस दिखाकर समायोजन के लिए विकल्प मांगा जा रहा है, वहीं दूसरी तरफ यहीं इसी विषय में अमेठी से शिक्षक की तैनाती का आदेश कर दिया गया। 


इसके अलावा आफलाइन स्थानांतरण के लिए अधिक आवेदन के बावजूद सिर्फ 122 के स्थानांतरण पर प्रश्न उठे हैं कि आखिर किस मानक पर केवल 122 तबादले हुए? 


इन सबके बीच अपर शिक्षा निदेशक राजकीय ने आनलाइन तबादले में कौशांबी के राजकीय हाईस्कूल लौधना के सामाजिक विज्ञान विषय के सहायक अध्यापक नारायण दास का स्थानांतरण सोनभद्र के जिस विद्यालय में किया, वह संचालित ही नहीं है। वह कौशांबी से कार्यमुक्त हो चुके हैं और सोनभद्र में संबंधित विद्यालय संचालित न होने से डीआइओएस के कार्यभार ग्रहण नहीं कराने पर उनका वेतन अटक गया है। 


अपर शिक्षा निदेशक ने 30 जून को नारायण दास का स्थानांतरण उनके आनलाइन आवेदन पर सोनभद्र के पं. दीनदयाल उपाध्याय राजकीय माडल इंटर कालेज मेडरदह के लिए किया। चार जुलाई को वह कौशांबी से कार्यमुक्त होकर पांच जुलाई को मेडरदह पहुंचे तो हैरान रह गए। वहां विद्यालय के नाम पर अधूरा खंडहरनुमा भवन मिला। उन्होंने बताया कि इस स्थिति को देख वह छह जुलाई को सोनभद्र के जिला मुख्यालय राबर्ट्सगंज में जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय पहुंचे तो वहां बताया गया कि यह विद्यालय अभी संचालित ही नहीं है तो ज्वाइन कहां कराएं?


 ऐसे में डीआइओएस राजेंद्र प्रसाद यादव ने अपर शिक्षा निदेशक राजकीय को पत्र लिखा कि संबंधित विद्यालय संचालित नहीं है। उन्होंने सात जुलाई को अपर निदेशक राजकीय कार्यालय पहुंचकर समस्या बताई। कौशांबी के डीआइओएस को भी लिखित जानकारी दी। प्रत्यावेदन लेकर लखनऊ भी गए, लेकिन अब तक उन्हें न्याय नहीं मिला। इस भागदौड़ में डेढ़ महीने बीत गए, जिसके चलते जुलाई का वेतन नहीं निर्गत हुआ। 


स्थानांतरण के लिए आनलाइन आवेदन मांगे जाने पर पोर्टल पर पं. दीनदयाल उपाध्याय राजकीय माडल इंटर कालेज मेडरदह, सोनभद्र विद्यालय का नाम होने पर उसे प्रथम वरीयता पर भरा। दूसरी वरीयता पर राजकीय इंटर कालेज गुरमुरा, सोनभद्र भरा था। उन्होंने प्रत्यावेदन देकर बताया है कि गुरमुरा विद्यालय में सामाजिक विज्ञान विषय का पद अभी भी रिक्त है, ऐसे में संशोधित आदेश कर उन्हें न्याय दिया जाए।

No comments:
Write comments