DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Sunday, August 21, 2022

फर्जी नियुक्ति पत्र मामले में जेल भेजे गए पांच शिक्षक, डीआईओएस ऑफिस से निदेशालय तक के बाबू भी शक के दायरे में

फर्जी नियुक्ति पत्र मामले में जेल भेजे गए पांच शिक्षक



लखनऊ, फर्जी नियुक्ति पत्र के सहारे झांसी जिले के राजकीय विद्यालयों में कार्यभार ग्रहण करने वाले सभी पांच अध्यापकों को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया। पांचों फर्जी अध्यापकों के विरुद्ध शुक्रवार को एफआईआर दर्ज कराई गई थी।


यह जानकारी अपर शिक्षा निदेशक (राजकीय) केके गुप्ता ने दी। उन्होंने बताया कि कार्यभार ग्रहण करने की आख्या निदेशालय को प्राप्त हुई तो नियुक्ति पत्र जांच में पूर्णत फर्जी पाया गया। इस पर शिक्षा निदेशालय ने जिला विद्यालय निरीक्षक (डीआईओएस) झांसी को फर्जी सहायक अध्यापक के विरुद्ध आवश्यक कानूनी कार्रवाई करने के निर्देश दिए। डीआईओएस झांसी ने जब प्रधानाध्यापिका को तलब किया तो जानकारी मिली कि उनके विद्यालय में पंचदेव के अलावा दो अन्य सहायक अध्यापकों रणविजय विश्वकर्मा पुत्र लालचन्द्र विश्वकर्मा और नरेन्द्र कुमार मौर्य पुत्र राम आधार मौर्य ने भी उसी तिथि में कार्यभार ग्रहण किया है।

साथ ही यह जानकारी भी मिली कि जिले के राजकीय हाईस्कूल वीरा और राजकीय हाईस्कूल बम्हौरी सुहागी झांसी में भी एक-एक अध्यापिकाएं जुलाई में नियुक्त हुई हैं।



लखनऊ। झांसी जिले के राजकीय विद्यालयों में पांच फर्जी शिक्षकों के नौकरी करने के मामले में प्रधानाध्यापिकाओं की लापरवाही के साथ शिक्षा विभाग के बाबू भी शक के दायरे में हैं। फर्जी शिक्षकों के कार्यभार ग्रहण करने के मामले में शिक्षा विभाग के बाबू भी जांच के घेरे में हैं। डीआईओएस झांसी के कार्यालय के साथ ही निदेशालय के कुछ कर्मचारियों की भूमिका पर सवाल उठ रहे हैं। 

पुलिस द्वारा आरोपियों से पूछताछ में मामला खुलने की उम्मीद जताई जा रही है। यही नहीं शिक्षा विभाग के अधिकारी भी अपने स्तर पर जांच कर रहे हैं। अपर शिक्षा निदेशक (राजकीय) केके गुप्ता के अनुसार मामले में अन्य दोषियों की तलाश की जा रही है। पकड़े जाने पर उनके विरुद्ध भी कार्यवाही की जाएगी।


ऐसे हुआ खुलासा
झांसी के राजकीय हाईस्कूल, खडौरा में पढ़ा रहे आजमगढ़ जिले के लालमऊ, पोस्ट मेहनाजपुर, तहसील लालगंज निवासी पंचदेव पुत्र रामचरन मौर्य का फर्जी नियुक्ति पत्र अपर शिक्षा निदेशक (राजकीय) केके गुप्ता को मिला तो उन्होंने उसकी जांच कराई। जांच में नियुक्ति पत्र फर्जी पाए जाने पर संयुक्त शिक्षा निदेशक व डीआईओएस झांसी को कार्यवाही के निर्देश दिए गए। 


इसके बाद डीआईओएस ने प्रधानाध्यापिका राजकीय हाईस्कूल, खडौरा को कागजात के साथ तलब किया तो पता चला कि उनके विद्यालय में पंचदेव के अलावा दो अन्य सहायक अध्यापक रणविजय विश्वकर्मा पुत्र लालचंद्र विश्वकर्मा और नरेंद्र कुमार मौर्य पुत्र राम आधार मौर्य ने भी उसी तिथि में कार्यभार ग्रहण किया है


अन्य विद्यालयों में नया कार्यभार ग्रहण करने वालों की पड़ताल में पता चला कि जिले के दो अन्य विद्यालयों राजकीय हाईस्कूल वीरा व राजकीय हाईस्कूल बम्हौरी सुहागी में भी एक-एक अध्यापिकाएं जुलाई 2022 में नियुक्त हुई हैं। सभी के नियुक्ति पत्र एक जैसे व पंचदेव की तरह फर्जी लगने व निदेशालय से पत्र निर्गत न होने की बात सामने आने पर डीआईओएस झांसी ने झांसी के मऊरानीपुर व गरौठा में एफआईआर कराने के लिए प्रधानाध्यापिकाओं को निर्देशित किया।

No comments:
Write comments