DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Sunday, May 10, 2020

यूपी बोर्ड : हाईस्कूल व इंटर का रिजल्ट जून के अंत तक, डिप्टी सीएम बोले- लॉकडाउन हटा तो और तेजी से शुरू होगा मूल्यांकन

ऑनलाइन शिक्षण को बढ़ावा देने की बनाएं रणनीति : उप मुख्यमंत्री।



ऑनलाइन शिक्षण को बढ़ावा देने की बनाएं रणनीति : उप मुख्यमंत्री।


लखनऊ : उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने कोविड-19 महामारी के दौरान छात्रों को उत्कृष्ट शिक्षा प्रदान करने के लिए एकेटीयू के कुलपति डॉ. विनय पाठक की अध्यक्षता में कमेटी का गठन किया है। उन्होंने ऑनलाइन शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए स्थायी रणनीति बनाने के निर्देश दिए हैं। डॉ. शर्मा मंगलवार को विधानभवन स्थित सभागार में अपनी अध्यक्षता में गठित उप समिति की बैठक में बोल रहे थे। उन्होंने माध्यमिक, उच्च, बेसिक व प्राविधिक शिक्षा विभाग के अधिकारियों से अब तक किए गए कार्यों और भविष्य की योजना की जानकारी ली। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि जून में बोर्ड परीक्षा का रिजल्ट घोषित कर लॉकडाउन की समाप्ति के बाद अगले सत्र के प्रवेश शुरू करें।

एकेटीयू वीसी की अध्यक्षता में गठित कमेटी में विशेष सचिव माध्यमिक शिक्षा राजेश कुमार, विशेष सचिव उच्च शिक्षा मनोज कुमार विशेष सचिव तकनीकी शिक्षा सुनील चौधरी एवं महानिदेशक बेसिक शिक्षा विजय किरन आनंद सदस्य होंगे। कमेटी कार्ययोजना प्रस्तुत करेगी कि डिजिटल एवं आईटी तकनीकी का इस्तेमाल कर कैसे उत्कृष्ट शिक्षा प्रदान कर सकते हैं। ऑनलाइन क्लासेज के साथ पोस्ट कोविड के बारे में भी कार्ययोजना तैयार कर प्रस्तुत करें।







यूपी बोर्ड : मई के अंत तक जांच जाएंगी कॉपियां, जून में निकलेगा रिजल्ट - उपमुख्यमंत्री।



यूपी बोर्ड : मई के अंत तक जांच जाएंगी कॉपियां, जून में निकलेगा रिजल्ट - उपमुख्यमंत्री।


लखनऊ : जून में यूपी बोर्ड का रिजल्ट निकाला जाएगा और मई के अंत तक सभी कॉपियां जांच ली जाएंगी। उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने यह जानकारी देते हुए एकेटीयू के कुलपति डॉ विनय कुमार पाठक की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया। यह कमेटी शिक्षा के क्षेत्र में डिजिटल और आईटी तकनीक के बेहतर इस्तेमाल पर कार्ययोजना तैयार करेगी। वहीं डॉ.शर्मा ने सभी विभागों से पोस्ट कोविड के बारे में सभी विभाग से कार्ययोजना मांगी। डिजिटल व ऑनलाइन शिक्षा पर समीक्षा बैठक करते हुए डॉ. शर्मा ने कहा कि ऑनलाइन क्लास के लिए एक स्थाई रणनीति बना ली जाए। विद्यार्थियों का शिक्षण कार्य किसी स्तर पर प्रभावित न हो। अगले सत्र के लिए एडमिशन का काम लॉकडाउन खत्म होने पर शुरू किया जाए। बैठक में माध्यमिक शिक्षा विभाग ने जानकारी दी कि व्हाट्सएप वर्चुअल क्लास के माध्यम से 67 लाख से अधिक विद्यार्थियों को पढ़ाया जा रहा है। दूरदर्शन के स्वयंप्रभा चैनल व यूट्यूब के द्वारा भी प्रसारण जारी है।

............................



यूपी बोर्ड : हाईस्कूल व इंटर का रिजल्ट जून के अंत तक, डिप्टी सीएम बोले- लॉकडाउन हटा तो और तेजी से शुरू होगा मूल्यांकन।


यूपी बोर्ड : हाईस्कूल व इंटर का रिजल्ट जून के अंत तक, डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा बोले, लॉकडाउन हटा तो और तेजी से शुरू होगा मूल्यांकन


लखनऊ : यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा का परिणाम जून के अंतिम सप्ताह तक घोषित करने की तैयारी की जा रही है। डिप्टी सीएम डॉ दिनेश शर्मा ने बताया कि ग्रीन जोन के 20 जिलों में बीती पांच मई से मूल्यांकन कार्य शुरू हो चुका है और ऑरेंज जीन के 36 जिलों में 12 मई के मूल्यांकन कार्य शुरू हो जाएगा। लॉकडाउन हटते ही रेड जोन के जिलों में हॉटस्पॉट और कटेनमेंट एरिया को छोड़कर शहर में दूर सुरक्षित क्षेत्र में मूल्यांकन केंद्र बनाकर कॉपियों का मूल्यांकन शुरू करवा दिया जाएगा। डॉ. दिनेश शर्मा ने बताया कि कॉपियों का मूल्यांकन कार्य सही गति से चल रहा है और मूल्यांकन के तत्काल आद रिजल्ट जारी करने के लिए भी टीम बनाई गई है ताकि मूल्यांकन के आज रिजल्ट तैयार करने में देरी न हो। उधर बाकी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए स्वयंप्रभा चैनल के माध्यम से दूरदर्शन पर कक्षाओं का प्रसारण किया जा रहा है और ऑनलाइन क्लासेस चलाई जा ही हैं कोरोना महामारी के बीच ऑनलाइन माध्यम से कोसं पूरा करवाया जा हा है। सत्र पटरी पर हे इसका पूरा ख्याल रखा जा रहा है।

....

माध्यमिक शिक्षक संघ ने उठाए यूपी बोर्ड मूल्यांकन पर सवाल।

लखनऊ : ग्रीन जोन के बाद ऑरजजोन के 36 जिलों में यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की कॉपियों का मूल्यांकन 12 मई से शुरू किए जाने का उप्र माध्यमिक शिक्षक संघ ने विरोध किया है। विधान परिषद में शिक्षक दल के नेता ओम प्रकाश शर्मा ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर माग की है कि परिणाम घोषित करने के लिए जो जल्दबाजी दिखाईजा रही है वह कहीं घातक न हो, इसलिए फैसले पर पुनर्विचार किया जाए।




यूपी बोर्ड : अब जुलाई में परिणाम आने की उम्मीद।


यूपी बोर्ड की 10वीं और 12वीं परीक्षा का परिणाम जुलाई से पहले आने के आसार नहीं हैं। ग्रीन जोन वाले जिलों में मंगलवार से मूल्यांकन शुरू हुआ है। वहां भी कॉपी जांचने वाले शिक्षकों की संख्या बहुत कम है। 17 मई तक लॉकडाउन के तृतीय चरण के बाद सभी 75 जिलों में हालात सामान्य हो जाएं, यह भी संभव नहीं दिख रहा।

इससे साफ है कि 17 मई के बाद भी सभी जिलों में पूरी तरह से मूल्यांकन शुरू नहीं होगा। सरकार ने सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने की जो गाइडलाइन जारी की है उसमें सभी 1.46 लाख शिक्षकों के एकसाथ कॉपी जांचने की गुंजाइश नहीं है।


हाईस्कूल और इंटर की 3.10 करोड़ कॉपियां जांचने में कम से कम 15 से 20 दिन लगना तय है। ऐसे में जून के पहले सप्ताह तक मूल्यांकन चला तो उसके एक महीने बाद यानि जुलाई के पहले या दूसरे सप्ताह में ही परिणाम आ सकता है। वैसे भी परिणाम बनाने का सारा काम दिल्ली में होता है। वहां के हालात नियंत्रण में नहीं है। इस सबका असर परिणाम पर पड़ेगा। शिक्षक विधायक सुरेश त्रिपाठी के अनुसार मौजूदा हालात देखते हुए लगता है कि बोर्ड परीक्षा का रिजल्ट जुलाई से पहले नहीं आएगा।



 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

No comments:
Write comments