DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Saturday, July 18, 2020

यूपी बोर्ड से मान्यता मिली नहीं, 767 स्कूलों के हजारों छात्रों का क्या होगा

यूपी बोर्ड से मान्यता मिली नहीं, 767 स्कूलों के हजारों छात्रों का क्या होगा


यूपी बोर्ड से मान्यता पाने का इंतजार कर रहे प्रदेशभर के 767 स्कूलों के हजारों छात्रों के भविष्य को लेकर संशय की स्थिति पैदा हो गई है। 6 जुलाई से प्रवेश शुरू होने के साथ ही ये 767 स्कूल भी इस उम्मीद में दाखिला लेने लगे हैं कि मान्यता तो मिल ही जाएगी लेकिन 2020-21 सत्र के लिए प्रवेश की अंतिम तिथि यानि 5 अगस्त तक मान्यता आदेश जारी नहीं होता तो परेशानी हो सकती है। प्रति स्कूल कक्षा 9 व 11 के 100 बच्चे भी मान लिए जाएं तो 75 हजार से अधिक बच्चों के सामने संकट खड़ा हो जाएगा।


बोर्ड की नियमावली के अनुसार एक अप्रैल से नया शैक्षणिक सत्र शुरू होने के पहले मान्यता आदेश जारी हो जाने चाहिए। बोर्ड ने क्षेत्रीय कार्यालयवार बैठकें कर सभी स्कूलों की फाइलें फरवरी में ही शासन को स्वीकृति के लिए भेज दी थी। लेकिन मान्यता आदेश जारी होने के पहले ही कोरोना ने सब अस्तव्यस्त कर दिया। देर होने के बावजूद 6 जुलाई को प्रवेश शुरू करने से पहले मान्यता की स्वीकृति जारी हो जानी चाहिए थी। लेकिन अब तक आदेश जारी नहीं हो सके हैं।


आज स्थिति यह है कि आवेदन करने वाले स्कूल प्रबंधकों से उन बच्चों के अभिभावक मान्यता का इंतजार कर रहे हैं जिन्होंने अपने बच्चों का दाखिला करा दिया है। इन 767 स्कूलों में 354 ने नवीन हाईस्कूल, 292 ने नवीन इंटर, 121 ने 10वीं-12वीं दोनों की नवीन मान्यता के लिए आवेदन किया है। इस साल कक्षा 9 व 11 में प्रवेश लेने वाले छात्र-छात्राएं 2022 की 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षा में सम्मिलति होंगे। मामला शासन के विचाराधीन होने के कारण कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं है।

No comments:
Write comments