DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Thursday, July 9, 2020

माध्यमिक में भी अब राज्य पुरस्कार के लिए ऑनलाइन आवेदन

माध्यमिक में भी अब राज्य पुरस्कार के लिए ऑनलाइन आवेदन


सौं अंकों की कसौटी पर कसे जाएंगे गुरुजी - माध्यमिक राज्य अध्यापक पुरस्कार के लिए मानक जारी

 
गुरुजी भले ही कितनी कॉपियां जांच चुके हों लेकिन अब उन्हें पुरस्कार पाने के लिए नंबर हासिल करने होंगे। माध्यमिक शिक्षा विभाग में राज्य अध्यापक पुरस्कार के लिए प्रधानाचार्य व अध्यापकों के लिए विद्यालय प्रबंधन, कक्षा प्रबंधन व स्कूल प्रदर्शन से संबंधित मानक तय किए गए हैं। कुल 95 अंकों के मानक तय किए गए हैं और 5 अंक


सामान्य ज्ञान, अभिव्यक्ति, व्यक्तित्व के लिए दिए जाएंगे। न्यूनतम 40 अंक पाने वाले ही इसकी दौड़ में शामिल हो सकेंगे। इस संबंध में अपर मुख्य सचिव आराधना शुक्ला ने आदेश जारी कर दिया है। प्रधानाध्यापक के लिए 15 वर्ष की सेवा, जिसमें से 5 वर्ष प्रधानाध्यापक के पद पर और अध्यापकों के लिए 10 वर्ष की सेवा अनिवार्य होगी। इसके ऑनलाइन आवेदन लेकर हर वर्ष 9 अध्यापकों को इसके लिए चुना जाएगा। 


मानकों में कक्षा में पढ़ाने के तरीके, यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की परीक्षा के रिजल्ट के आधार पर, खेलकूद, एनसीसी, राष्ट्रीय प्रतिभा खोज में प्रदर्शन, बेस्ट प्रैक्टिस आदि के कई मानक तय किए गए हैं। सबके लिए अलग-अलग नंबर भी हैं।


आवेदनों का परीक्षण पहले जनपदस्तरीय कमेटी, फिर मंडल कमेटी और इसके बाद राज्य स्तरीय कमेटी करेगी। जनपदस्तर की कमेटी को स्थलीय निरीक्षण करना होगा। अभ्यर्थियों को यथासंभव प्रमाणपत्र भी अपलोड करने होंगे। जिलास्तरीय कमेटी सभी आवेदनों में से 3 अभ्यर्थियों के आवेदन मंडल स्तरीय कमेटी को देगी। मंडल स्तरीय कमेटी केवल दो अभ्यर्थियों के आवेदन पत्र राज्य स्तरीय कमेटी को देगी।


माध्यमिक -राज्य अध्यापक पुरस्कार : शिक्षकों व प्रधानाचार्यों के लिए मानक तय, खेलकूद ओर सह शैक्षणिक गतिविधियों पर भी मिलेगा पुरस्कार,  माध्यमिक शिक्षा विभाग ने जारी की नीति

 
माध्यमिक शिक्षा में खेलकूद और नवाचार के साथ सह- शैक्षणिक गतिविधियों में उत्कृष्ट कार्य करने वाले शिक्षकों को भी अब राज्य अध्यापक पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। शिक्षकों और प्रधानाचार्यों के लिए राज्य अध्यापक पुरस्कार के मानक अलग-अलग होंगे। पुरस्कार के लिए ऑनलाइन ही आवेदन देना होगा। माध्यमिक शिक्षा विभाग ने पहली बार राज्य अध्यापक पुरस्कार की नोति जारी को है। इस नीति में प्रधानाचायों और शिक्षकों द्वाय स्कूल में जनसहयोग से कराए गए सौंदर्यीकरण और अबस्थापना सुविधा के कार्यों के भी अंक दिए जाएंगे। प्रधानाध्यापक और अध्यापकों को आवेदन के साथ अपनी उपलब्धियों का वीडियो भी भेजना होगा। पुरस्कार के लिए प्रधानाचार्यों की Re अवधि 15 वर्ष तय की गई है। इसमें कम से कम पांच वर्ष प्रधानाचार्य के पद पर कार्य करना अनिवार्य किया गया हैं। अध्यापकों के लिए सेवा अवधि 10 वर्ष की रहेगी। पुरस्कार के लिए जिला स्तर पर डीएम की अध्यक्षता में छह सदस्यीय समिति बनेगी। 


मंडल स्तर पर मंडलायुक्त की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय और प्रदेश स्तर पर विभाग के प्रमुख सचिव या सचिव की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय समिति बनेगी। जिला और मंडल स्तरीय समिति आवेदक शिक्षकों का साक्षात्कार भी लेगी। इसमें आवेदक शिक्षक व प्रधानाचार्य को डिजिटल प्रजेटेशन देना होगा। जिला स्तरीय समिति अधिकतम तीन नाम की संस्तुति मंडल स्तरीय समिति को करेगी, मंडल स्तरीय समिति अधिकतम दो नाम कौ संस्तुति प्रदेश समिति को भेजेगी।


हर वर्ष ऐसे चलेगा कार्यक्रम 
राज्य अध्यापक पुरस्कार के लिए 15 अप्रैल से 15 मई तक ऑनलाइन आबेदन लिए जाएंगे। जिला स्तरीय समिति द्वारा आवेदन पत्रों का परीक्षण एवं स्थलीय सत्यापन कर 16 मई से 15 जुलाई तक पुरस्कार के लिए पात्र अध्यापकों का प्रस्ताव मंडल स्तरीय समिति को भेजा जाएगा। मंडल स्तरीय समिति 16 से 31 जुलाई तक पात्र शिक्षकों का चयन कर सूची राज्य स्तरीय समिति को भेजेगी। राज्य स्तरीय समिति 1 से 20 अगस्त के बीच चयन करेगी।


कोरोना संक्रमण के चलते इस वर्ष राज्य अध्यापक पुरस्कार के लिए ऑनलाइन आवेदन 15 से 30 जुलाई तक लिए जाएंगे। जिला स्तरीय समिति 1 से 10 अगस्त तक आवेदन पत्रों का सत्यापन और स्थलीय निरीक्षण कर स्तरीय समिति को सूची सौंपेगी। मंडल स्तरीय समिति पात्र शिक्षकों की सूची 11 से 17 अगस्त तक राज्य स्तरीय समिति को भेजेगी। राज्य स्तरीय समिति 15 से 25 अगस्त के बीच राज्य अध्यापक पुरस्कार के लिए पात्र शिक्षकों का चयन करेगी।


 अब माध्यमिक शिक्षा विभाग में भी राज्य अध्यापक पुरस्कार के आवेदन ऑनलाइन लिए जाएंगे अध्यापकों को इसके लिए चुना जाएगा। इसके लिए हर वर्ष 15 अप्रैल से 15 मई तक आवेदन लिए जाएंगे। इस संबंध में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में फैसला ले लिया गया है। 


इस वर्ष आवेदन 15 से 30 जुलाई तक लिए जाएंगे। जिला स्तर कमेटी एक से 10 अगस्त, मंडलीय कमेटी 11 से 17 अगस्त, राज्य स्तरीय कमेटी 18 से 25 अगस्त तक अध्यापकों का चयन करेगी। बेसिक में पहले से ही राज्य अध्यापक पुरस्कार के मानक तय हर वर्ष 9 हैं। हर वर्ष 75 अध्यापक पुरस्कृत करने का नियम है। अब माध्यमिक शिक्षा विभाग में भी मानक तय कर दिए गए हैं। इसके लिए राज्य स्तर पर प्रमुख सचिव, मंडल स्तर पर मंडलायुक्त व जिला स्तर पर डीएम की अध्यक्षता में कमेटी बनाई जाएगी। राज्य स्तरीय कमेटी एक से 20 अगस्त तक चुनाव करेगी।

No comments:
Write comments