DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Friday, July 3, 2020

फर्जी डिग्री प्रकरण : फैजाबाद- वाराणसी से आई फर्जी सत्यापन रिपोर्ट, फर्जी डिग्री के बाद अब फर्जी सत्यापन रिपोर्ट


बरेली : एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती में गड़बड़ी के तार संपूर्णानंद संस्कृत विवि वाराणसी, आगरा विवि और फैजाबाद विवि से जुड़े हुए हैं। ठगों का गैंग इतना मजबूत है कि इन विवि से विभाग को फर्जी सत्यापन रिपोर्ट तक भिजवा दी गई। जांच के बाद 45 शिक्षकों की सेवा समाप्त की गई। अब भीचार शिक्षकों का सत्यापन नहीं हुआ है। सत्र 2015-16 में माध्यमिक शिक्षा के राजकीय स्कूलों में एलटी ग्रेड शिक्षकों की भर्ती हुई थी। बरेली में 252 पद भरे गए थे। वेतन जारी करने से पहले सत्यापन कराया गया। डा. भीमराव अंबेडकर यूनिवर्सिटी आगरा, डा. राम मनोहर लोहिया यूनिवर्सिटी फैजाबाद और संपूर्णानंद संस्कृत विवि वाराणसी से जो सत्यापन रिपोर्ट आई वो भी संदिग्ध थी। पड़ताल में पता चला कि सत्यापन रिपोर्ट भी फर्जी है। एक-एक कर 45 शिक्षकों की फर्जी डिग्री पकड़ में आई। इनमें से दर्जन भर की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की मार्कशीट में भी गड़बड़ी मिली थी। वहीं तीन शिक्षक ऐसे मिले जिन्होंने अमान्य बोर्ड की मार्कशीट लगाकर नौकरी पाई थी। इनमें 11 महिलाएं और 34 पुरुष शिक्षक थे। लगभग चार वर्ष बीत जाने के बाद भी अब तक आगरा विश्वविद्यालय और संपूर्णानंद विवि ने दो-दो शिक्षकों की सत्यापन रिपोर्ट नहीं भेजी है। डाक से आई सत्यापन रिपोर्ट पर भरोसा नहीं जेडी डा. प्रदीप कुमार ने बताया कि आगरा विवि और संपूर्णानंद संस्कृत विवि को कई रिमाइंडर दिए जा चुके हैं। अधिकारियों को सत्यापन रिपोर्ट लेने के लिए भेजा गया। विवि उन्हें रिपोर्ट देने में आनाकानी कर रहे हैं। डाक से आई सत्यापन रिपोर्ट पर हमारा भरोसा नहीं है। यह पहले भी फर्जी पाई गई है। 

फर्जी शिक्षकों पर शिकंजा

औरैया में केस दर्ज : फर्जी अभिलेख के जरिए बेसिक शिक्षा विभाग में नौकरी कर रहे छह शिक्षकों के खिलाफ गुरुवार को केस दर्ज हुआ। 

कन्नौज में एक पैन पर तीन शिक्षक: बेसिक शिक्षा विभाग में एक ही पैन कार्ड पर नौकरी करने वाले तीन शिक्षक पकड़े गए हैं। फर्जी शिक्षकों को मिले 4.38 लाख हरदोई बीएसए के निर्देश पर मानदेय का ब्योरा तलब किया गया। फर्जी अभिलेखों के सहारे कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय में नौकरी पाने वाली मैनपुरी की फर्जी शिक्षिका अंजलि ने नौकरी के दौरान चार लाख 38 हजार 674 रुपये मानदेय पाए हैं। अंजली के मानदेय का खुलासा हिन्दुस्तान की खबर किया गया है। हिंदुस्तान ने गुरुवार के अंक में खबर प्रकाशित की थी।

No comments:
Write comments