DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Thursday, September 17, 2020

फतेहपुर : जल संचयन का मॉडल बनेंगे परिषदीय विद्यालय

फतेहपुर : जल संचयन का मॉडल बनेंगे परिषदीय विद्यालय।

फतेहपुर : दिनों दिन गिरते जा रहे पृथ्वी के जलस्तर को रोकने के लिए जल संचयन पर चिंतन और मंथन हो रहा है। जल संचयन के लिए नदी, तालाब खोदवाए जा रहे हैं तो सरकारी इमारतों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम को अनिवार्य कर दिया गया है। बेसिक शिक्षा के स्कूल सालों साल पुराने हैं। तब रेन वाटर हार्वेस्टिंग जैसी कोई बात ही नहीं थी। बेसिक शिक्षा महानिदेशक ने परिषदीय स्कूलों में इस सिस्टम को मजबूत बनाने का काम लघु डाल सिंचाई को दिया है।





सर्वे करके सिस्टम की बिंदुवार रिपोर्ट भेजने के निर्देश दिए गए हैं। गिरते भू-गर्भ जल स्तर को बचाने के लिए अब बेसिक शिक्षा के स्कूलों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाए जाएंगे। भवन की छतों का पानी से प्यासी धरती की कोख को भरा जाएगा। इसके लिए व्यापक स्तर पर कार्ययोजना बनाई गई है। शासन ने इसकी जिम्मेदारी लघुडाल सिंचाई को दी है। विभाग सर्वे 1. करने में जुट गया है। सर्वे में कितने विद्यालयों में सिस्टम है, कितने में नहीं है, कितने है तो निष्प्रयोज्य हो चुके हैं जैसे बिंदु जुटाए जा रहे हैं।




कवायद

▪️लघुडाल सिंचाई विभाग को सर्वे का दिया गया काम 
▪️रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम को मजबूत करने की कवायद

परिषदीय विद्यालयों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम को सुदृढ़ किया जाएगा। इसके लिए शासन ने लघु डाल सिंचाई को जिम्मेदारी दी है। विभाग के द्वारा सर्वे कराया जा रहा है। रिपोर्ट के आधार पर शासन से लघु डाल को धन मुहैया होगा और सिस्टम बनाया जाएगा। शिवेंद्र प्रताप सिंह, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी।

प्राथमिक स्कूल - 1384

उच्च प्राथमिक स्कूल - 263

कंपोजिट स्कूल - 482

कुल परिषदीय स्कूल - 2129


जिले में यूं तो अभी तक 2650 परिषदीय विद्यालय संचालित हो रहे थे। संविलियन के बाद स्कूलों की संख्या महज 2129 बची है। में यह सिस्टम लगा हुआ है।धरातल पर जिसकी दशा बेहद खराब है।

 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

No comments:
Write comments