DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Tuesday, December 29, 2020

अयोध्या : परिषदीय शिक्षकों की परीक्षा स्थगित, शासनादेश के विरुद्ध बताते हुए शिक्षक संघ द्वारा परीक्षा के औचित्य पर उठाया गया था सवाल

अयोध्या : परिषदीय शिक्षकों की परीक्षा स्थगित, शासनादेश के विरुद्ध बताते हुए शिक्षक संघ द्वारा परीक्षा के औचित्य पर उठाया गया था सवाल


● जिलाधिकारी के निर्णय के बाद परीक्षा स्थगित

● परिषदीय शिक्षकों की परीक्षा के औचित्य पर उठाया सवाल

● प्राथमिक शिक्षक संघ ने जिलाधिकारी से की मुलाकात

● शासनादेश का अनुपालन कराए जाने की डीएम से मांग


उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष व प्रांतीय ऑडिटर नीलमणि त्रिपाठी के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने जिला अधिकारी से मिलकर 30 दिसंबर को आयोजित की जाने वाली परिषदीय शिक्षकों की परीक्षा के औचित्य पर सवाल उठाया है। फिलहाल जिलाधिकारी ने प्रकरण को गंभीरता से लेकर सकारात्मक निर्णय लेने का आश्वासन दिया है। संघ ने इस सम्बंध में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को भी ज्ञापन सौंपा है।


जिलाध्यक्ष श्री त्रिपाठी ने बताया कि आधारशिला ध्यानाकर्षण एवं शिक्षण संग्रह मॉड्यूल पर क्विज प्रतियोगिता आयोजित किए जाने का मुख्य विकास अधिकारी ने निर्देश दिया है। प्रतियोगिता ऐच्छिक होती है बाध्यकारी नहीं। बावजूद इसके जनपद में परिषदीय शिक्षकों, शिक्षामित्रों, अनुदेशकों की परीक्षा आयोजित की जा रही है। जो कि शासनादेश के सर्वथा विपरीत है। 


उन्होंने बताया कि शासनादेश में यह स्पष्ट है कि जिला प्रशासन, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी व खंड शिक्षा अधिकारी अपने स्तर पर किसी तरह की परीक्षा का आयोजन नहीं करा सकते। श्री त्रिपाठी ने कहा कि चयनित होकर आए योग्य शिक्षकों की परीक्षा कराया जाना समाज में शिक्षकों की छवि धूमिल करने वाला निर्णय है। जिसे निरस्त किया जाना चाहिए। जिला मंत्री अजीत सिंह ने कहा कि परिषदीय शिक्षकों का सेंटर प्राइवेट कॉलेजों में भेजकर परीक्षा कराया जाना अपमानजनक व निंदनीय है। प्रतिनिधिमंडल में जिला कोषाध्यक्ष वीरेंद्र भारती मौजूद रहे।

No comments:
Write comments