DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Thursday, April 22, 2021

यूपी : पंचायत चुनाव बना कोरोना का सबसे बड़ा कैरियर, 4-5 गुना तेज हो गई संक्रमण की रफ्तार

यूपी : पंचायत चुनाव बना कोरोना का सबसे बड़ा कैरियर, 4-5 गुना तेज हो गई संक्रमण की रफ्तार


लखनऊ: उत्तर प्रदेश में कोरोना का संक्रमण बेकाबू रफ्तार से बढ़ रहा है. सरकार को इस बात की जानकारी भी है. लेकिन उसके बावजूद पंचायत चुनाव सरकार की प्राथमिकता रहा. अब आंकड़े ही गवाही दे रहे हैं कि जहां-जहां पंचायत चुनाव हुए वहां कोरोना की रफ्तार 4-5 गुना तेज हो गई है.

रिपोर्ट साभार : abp गंगा


आखिर कैसे पंचायत चुनाव कोरोना का सबसे बड़ा कैरियर बना?

पंचायत चुनाव के प्रथम चरण में 15 अप्रैल को प्रदेश के 18 जिलों में वोटिंग हुई. इनमें से कुछ जिलों के आंकड़ों को हमने चुनाव के पहले और चुनाव के बाद का अध्ययन किया. जिसमें यह बात साफ निकल कर सामने आई कि चुनाव से पहले कोरोना के मामले कम थे और चुनाव होने के बाद कोरोना के मामलों में 4-5 गुना इजाफा हुआ है.


सबसे पहले बात प्रयागराज की यहां अगर 11 से लेकर 13 अप्रैल तक के कोरोना के आंकड़ों को देखें तब मरीजों की संख्या इन 3 दिनों में 4716 थी. जो चुनाव के बाद 16 अप्रैल से 18 अप्रैल के आंकड़ों में बढ़कर 5446 हो गई.


अगर बरेली की बात करें तो यहां चुनाव से पहले 11 से 13 अप्रैल के बीच कुल 668 कोरोना के मरीज सामने आए थे. जबकि चुनाव के बाद 16 से 18 अप्रैल के बीच मरीजों की संख्या बढ़कर 1824 हो गई. इसी तरह अगर महोबा की बात करें तो चुनाव से पहले 11 से लेकर 13 अप्रैल के बीच यहां केवल 57 मरीज मिले थे जबकि चुनाव के बाद 16 से लेकर 18 अप्रैल के बीच 241 मरीज सामने आए.


16 से 18 अप्रैल के बीच इन जिलों में बढ़े मामले

वहीं संत कबीर नगर की बात करें तो 11 से 13 अप्रैल के बीच चुनाव से पहले कुल 109 मरीज मिले थे जबकि चुनाव के बाद 16 से 18 अप्रैल के बीच 233 मरीज हो गए. रामपुर में 11 से 13 अप्रैल के बीच चुनाव से पहले 106 मरीज मिले थे. तो वहीं चुनाव के बाद 16 से 18 अप्रैल के बीच मरीजों की संख्या बढ़कर 437 हो गई.


अयोध्या में 11 से 13 अप्रैल के बीच 314 मरीज मिले थे तो वहीं 16 से 18 अप्रैल के बीच 719 मरीज हो गए. इसी तरह अगर आगरा की बात करें तो यहां 11 से 13 अप्रैल के बीच कुल 486 मरीज सामने आए थे. तो वहीं चुनाव के बाद आगरा में 16 से 18 अप्रैल के बीच 1113 मरीज सामने आ गए. जबकि कानपुर नगर की अगर बात करें तो यहां 11 से 13 अप्रैल के बीच चुनाव से पहले कुल 2863 मामले सामने आए थे जबकि 16 से 18 अप्रैल के बीच कानपुर नगर में कोरोना मरीजों की संख्या 5068 हो गई.


ये आंकड़े अपने आप में गवाही दे रहे हैं कि कैसे पंचायत चुनाव कोरोना का सबसे बड़ा कैरियर बनकर सामने आया है. यानी पंचायत चुनाव के बाद कोरोना के मामले इन जिलों में काफी तेजी से बढ़े हैं. सरकार को इस बात की जानकारी थी लेकिन उसके बावजूद भी शायद उसकी प्राथमिकता पंचायत चुनाव थे.

No comments:
Write comments