DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Thursday, April 29, 2021

विश्वविद्यालयों और कॉलेजों की आगामी सभी परीक्षाओं और प्रवेश प्रक्रिया को आगे बढ़ाने की तैयारी, UGC जारी करेगा गाइडलाइन

विश्वविद्यालयों और कॉलेजों की आगामी सभी परीक्षाओं और प्रवेश प्रक्रिया को आगे बढ़ाने की तैयारी, UGC जारी करेगा गाइडलाइन


विश्वविद्यालयों और कॉलेजों की आगामी सभी प्रस्तावित परीक्षाओं और प्रवेश प्रक्रिया को आगे बढ़ाने की तैयारी
Covid Seond Wave देश में कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए विश्वविद्यालयों और कॉलेजों की आगामी सभी प्रस्तावित परीक्षाओं और प्रवेश प्रक्रिया को आगे बढ़ाने की तैयारी हो रही है। जल्द ही इसके लिए यूजीसी गाइडलाइन जारी करेगा।


नई दिल्ली  ।  देश में कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए विश्वविद्यालयों और कॉलेजों की आगामी सभी प्रस्तावित परीक्षाओं और प्रवेश प्रक्रिया को आगे बढ़ाने की तैयारी हो रही है। जल्द ही इसके लिए यूजीसी गाइडलाइन जारी करेगा। इसके साथ पाठ्यक्रम में भी कटौती की जा सकती है। इसके अलावा देश के विश्वविद्यालयों के छात्रों और शिक्षकों के काफी संख्या में कोरोना से पीड़ित होने की खबरें आ रही हैं। इससे पहले कई राज्यों की परीक्षाएं रद कर दी गई हैं या निलंबित कर दी गई हैं। इसमें यूपी, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र जैसे राज्य शामिल हैं। पीएम मोदी की अध्यक्षता में हुई बैठक में सीबीएसई की कक्षा 10 की परीक्षा रद कर दी गई और कक्षा 12 वीं की परीक्षा को रद कर दिया गया है।


उच्च शिक्षा के ज्यादातर कोर्स होंगे ऑनलाइन, यूजीसी ने योजना पर शुरू किया काम

उच्च शिक्षण संस्थानों ने अपने ज्यादा से ज्यादा कोर्सों को आनलाइन या फिर दूरस्थ शिक्षा के माध्यमों से संचालित करने का फैसला किया है। हालांकि यह सुविधा सिर्फ उन्हीं उच्च शिक्षण संस्थानों को हासिल होगी, जो गुणवत्ता के एक तय मानक को पूरा करेंगे। माना जा रहा है कि इस सुविधा को विस्तार मिलने से दाखिले से वंचित रहने के बाद भी छात्र अपनी पसंद के विषयों और पाठ्यक्रमों में पढ़ाई कर सकेंगे।


विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) और अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआइसीटीई) ने फिलहाल इस योजना पर तेजी से काम शुरू कर दिया है। इस बीच एआइसीटीई ने बड़ी संख्या में अपने कोर्सों को ऑनलाइन और दूरस्थ शिक्षा के जरिए पढ़ाने की भी मंजूरी दी है। इनमें आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआइ), कंप्यूटर एप्लीकेशन, डाटा साइंस, लॉजिस्टिक्स, ट्रेवल एंड टूरिज्म के साथ प्रबंधन और उससे जुड़े कोर्स शामिल हैं।



यूजीसी ने टीकाकरण से जुड़ी रणनीति पर शुरू किया काम

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने टीकाकरण से जुड़ी रणनीति पर काम शुरू कर दिया है। विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षण संस्थानों से भी अपने स्तर पर योजना तैयार करने को कहा गया है। यूजीसी के सचिव रजनीश जैन के मुताबिक टीकाकरण के इससे पहले के चरणों में भी सभी विश्वविद्यालयों और कालेजों को तय उम्र के दायरे में आने वाले संस्थान के सभी लोगों का टीकाकरण कराने के लिए कहा गया था। साथ ही इसे लेकर आम लोगों को जागरूक करने को कहा था।
    

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने 20 अप्रैल, 2021 को यूजीसी नेट परीक्षा,दिसंबर 2020 परीक्षा को स्थगित कर दिया था। IIT मद्रास और अन्ना विश्वविद्यालय ने अपनी सेमेस्टर परीक्षाओं और यहां तक कि ऑनलाइन परीक्षाओं को भी स्थगित कर दिया है। द इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आइसीएआइ) ने कोविड-19 की दूसरी लहर को देखते हुए मई में प्रस्तावित सीए फाइनल और सीए इंटरमीडिएट परीक्षा स्थगित कर दी है। आइसीएआइ की ओर से जारी महत्वपूर्ण सूचना में बताया गया है कि कोविड-19 की मौजूदा समस्या से छात्रों को बचाना बेहद जरूरी है। इसलिए 21 मई की सीए फाइनल और 22 मई की सीए इंटरमीडिएट की परीक्षा स्थगित की जा रही है।


बुधवार को स्वास्थ्य मंत्रालय के जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, बीते 24 घंटों में 3,60,960 नए मामले आए। पिछले एक सप्ताह से तीन लाख से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। इस दौरान 3,293 लोगों की मौत से देश में कोरोना से अब तक हुई मौतों का आंकड़ा बढ़कर दो लाख से अधिक हो गया। ऐसा पहली बार है जब कोरोना से इतनी तादाद में मौतें हुईं और नए मामले सामने आए।

No comments:
Write comments