DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Friday, August 5, 2022

यूपी बोर्ड की किताबों के लिए मारामारी, सभी जिलों में कक्षा 9 से 12 तक की किताबें उपलब्ध नहीं, पुस्तक विक्रेता भी नहीं ले रहे दिलचस्पी

यूपी बोर्ड की किताबों के लिए मारामारी,  सभी जिलों में कक्षा 9 से 12 तक की किताबें उपलब्ध नहीं, पुस्तक विक्रेता भी नहीं ले रहे दिलचस्पी




लखनऊ। यूपी बोर्ड के कक्षा 9 से 12 तक की किताबें बाजार में उपलब्ध नहीं हैं। यह स्थिति तब है जबकि किताबों की आपूर्ति के लिए तीन-तीन प्रकाशक उपलब्ध हैं। इसका मुख्य कारण यह बताया जा रहा है कि, किताबों में मार्जिन कम होने के नाते पुस्तक विक्रेता बेचने से परहेज कर रहे हैं। यह स्थिति पूरे प्रदेश में बनी हुई हैं। 


माध्यमिक शिक्षा परिषद के संचालित उच्चतर माध्यमिक तथा इंटर कॉलेजों में एनसीईआरटीई की किताबों से पढ़ाई होती है। इन किताबों की छपाई की जिम्मेदारी कैला जी बुक्स आगरा, पीताम्बरा बुक्स झांसी और डायनामिक टेक्स्ट बुक्स झांसी को सौंपी गई है। इन्हीं तीनों को किताबें बाजारों में आपूर्ति करनी थी। कुल 34 विषयों की 67 किताबों के लिए मची मारामारी के कारणों की पड़ताल में पता चला कि सबसे ज्यादा संकट इंटरमीडिएट भौतिक विज्ञान, रसायन, विज्ञान तथा जीव विज्ञान (बॉयोलॉजी) की किताबों का है। यह किताबें बाजार में नहीं है। 


पुस्तक विक्रेताओं का कहना है कि प्रकाशक ही किताबें मुहैया नहीं करा रहे हैं। हाईस्कूल की अंग्रेजी, गणित, हिन्दी और विज्ञान की भी किताबें कम पड़ गई हैं। किताबों की कमी को देखते हुए डीआईओएस ने लखनऊ के जुबिली इंटर कॉलेज में प्रकाशकों के 5 दिन स्टॉल लगवाए। वहां भी एक दिन तो सभी किताबें मिली लेकिन बाद में किताबें कम पड़ गईं।


पुस्तक विक्रेता बोले

प्रकाशक किताबें उपलब्ध नहीं करा पा रहे हैं। एनसीआरटी की किताबों के दाम कम होने से बचत न के बराबर है। प्रदीप कुमार अग्रवाल, व्यापार सदन

इन किताबों पर एक फीसदी की बचत है। किताबों को लाने व दूसरे जिलों में भेजने में कोई बचत नहीं होती है। नुकसान हो रहा है। जितिन्द्र सिंह चौहान, अध्यक्ष, उप्र. स्टेशनरी विक्रेता एवं निर्माता एसो.

No comments:
Write comments