DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Saturday, June 18, 2022

बड़े पैमाने पर हुईं बेसिक शिक्षक भर्तियां, अब घर वापसी की चाह लिए शिक्षक कर रहे सोशल मीडिया के जरिए विकल्प की तलाश

बड़े पैमाने पर हुईं बेसिक शिक्षक भर्तियां, अब घर वापसी की चाह लिए शिक्षक कर रहे सोशल मीडिया के जरिए विकल्प की तलाश


कोई है जो बलरामपुर आना चाहता है? प्रयागराज कौन-कौन आना चाहता है? मुझे भी साथी चाहिए मऊ से बाराबंकी? कुछ ऐसे ही अंदाज में अपने विकल्प खोजे जा रहे हैं। कोई गलतफहमी मत पालिए...यह विकल्प की यह तलाश शादी के लिए नहीं बल्कि बेसिक शिक्षकों के सहायक अध्यापक के परस्पर तबादला यानी म्यूचुअल ट्रांसफर के लिए की जा रही है।



सोशल मीडिया पर तो ऐसे संदेशों की धूम है ही, मैट्रीमोनियल वेबसाइट की तर्ज पर इसकी कई वेबसाइट भी बना ली गई है। फेसबुक से लेकर व्हाट्सएप और टेलीग्राम से लेकर ट्विटर तक पर विकल्प खोजे जा रहे हैं। इस शैक्षिक सत्र में अंतरजनपदीय तबादले करने में विभाग एकमत नहीं है लेकिन प्राइमरी स्कूलों के शिक्षकों के परस्पर तबादले के लिए सरकार तैयारी कर रही है। लिहाजा, अभी से तैयारियां शुरू हो गई हैं। आदेश आने का इंतजार शिक्षक नहीं कर रहे हैं, उन्होंने अपनी तलाश लांच कर दी है।


सबसे ज्यादा विकल्प तलाश रहे हैं, बलरामपुर, सिद्धार्थनगर, फतेहपुर, सोनभद्र जैसे आकांक्षी जिलों के शिक्षक। कारण यह है कि इन आठ आकांक्षी जिलों में तभी तबादले होने का नियम है जब वहां तबादले के इच्छुक शिक्षक के स्थान पर कोई अन्य शिक्षक तैनाती चाहता हो और वह स्थानांतरण के बाद वहां ज्वाइन कर ले। लिहाजा यहां के तबादले की सफलता विकल्प पर भी निर्भर है, इसलिए यहां के शिक्षकों की अब म्यूचुअल तबादले पर ही आस टिकी है। वर्ष 2019-2020 में लगभग साढ़े चार हजार म्यूचुअल तबादले किए गए थे। मैट्रीमोनियल साइट की तर्ज पर वेबसाइट भी शुरू हो गई हैं, जिनमें शिक्षक अपना ब्यौरा भर कर पोस्ट कर रहे हैं। इसमें एक नजर में दिख रहा है कि कौन-कहां से कहां आना चाहता है।


बड़े पैमाने पर हुईं भर्तियां, अब घर वापसी की चाह

 
पिछले पांच वर्षों में बड़े पैमाने पर 68500 और 69000 शिक्षक भर्ती की गई। इसमें बागपत, गाजियाबाद, लखनऊ के रहने वाले युवक-युवतियों को मेरिट के नीचे होने के कारण बलरामपुर, श्रावस्ती, बहराइच में नियुक्ति मिली लेकिन अब वे अपने घर वापस जाना चाहते हैं। कई युवतियों की इस दौरान शादी हो गई। लिहाजा वे तबादले की बाट जोह रहे हैं।

No comments:
Write comments