DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Sunday, June 19, 2022

सीबीएसई और सीआईसीएसई बोर्ड के मुकाबले यूपी बोर्ड के विद्यार्थियों पर होता है न्यूनतम खर्च, स्कूल की फीस भी काफी कम

सीबीएसई और सीआईसीएसई बोर्ड के मुकाबले यूपी बोर्ड के विद्यार्थियों पर होता है न्यूनतम खर्च, स्कूल की फीस भी काफी कम

एक लाख बनाम 13 हजार लेकिन सपने वही, लक्ष्य वही
 


लखनऊ : फीस 300 से 700, स्कूल तक पहुंचने का साधन अमूमन साइकिल या सरकारी बस... कोचिंग के नाम पर गणित या विज्ञान का ट्यूशन..। यूपी बोर्ड के विद्यार्थियों पर अभिभावक अमूमन 10 हजार रुपये तक ही खर्च करते हैं जबकि सीबीएसई या सीआईसीएसई बोर्ड के स्कूलों में 50 हजार से लेकर से दो लाख रुपये तक खर्च होता है। लेकिन दोनों ही बोर्ड के विद्यार्थियों का लक्ष्य ज्यादातर डॉक्टर, इंजीनियर और आईएएस अफसर बनना होता है।


इंटरमीडिएट की टॉपरों की सूची में नंबर चार पर आने वाली प्रयागराज की आंचल यादव ने विज्ञान वर्ग से 94 फीसदी अंक हासिल किए हैं और उनकी पढ़ाई पर मात्र 3600 रुपये खर्च हुए हैं। वह साइकिल से स्कूल जाती हैं, ट्यूशन पढ़ती नहीं है और उनकी फीस 300 रुपये महीना है। वहीं नंबर तीन पर 95 फीसदी लेकर टॉप करने वाले योगेश प्रताप पैदल स्कूल जाते हैं और उनके अभिभावकों ने सिर्फ स्कूल की फीस दी है।


अमूमन यूपी बोर्ड के स्कूलों में फीस ज्यादा नहीं होती। ज्यादातर स्कूलों में 300 से 600 रुपये महीना फीस ली जाती है। वहीं कोचिंग के नाम पर 10 फीसदी विद्यार्थी ही प्राइवेट ट्यूशन लेते हैं और इसमें भी पांच से सात हजार रुपये प्रतिवर्ष खर्चा आता है। यदि बात स्कूल तक जाने की करें तो ज्यादातर पैदल या साइकिल से और स्कूल दूर होने पर सरकारी बस या टैम्पो की मदद ली जाती है। यूपी बोर्ड के बहुत अच्छे स्कूलों में फीस दो हजार रुपये प्रतिमाह तक है लेकिन ऐसे स्कूल प्रदेश में उंगलियों पर गिने जा सकते हैं।


सीबीएसई या सीआईसीएसई बोर्ड के स्कूलों की करें तो यहां दसवीं व बारहवीं की फीस फीस तीन हजार से लेकर 15 हजार रुपये महीना तक होती है। ये फीस स्कूलों की सुविधाओं के मुताबिक घटती-बढ़ती है। अमूमन इस बोर्ड के बच्चे कोचिंग भी जाते हैं। इनकी कोचिंग में प्रति विषय न्यूनतम 10 हजार रुपये प्रति विषय से लेकर 20 हजार रुपये तक और परिवहन पर सालाना खर्च 15 से 20 हजार रुपये खर्च किए जाते हैं। इसके अलावा कम्यूटर, प्रोजेक्ट समेत इंटरनेट आदि पर आने वाला खर्चा अलग से होता है।


विभिन्न बोर्डों में आने वाला खर्च

मद-       यूपी बोर्ड        सीआईसीएसई/सीबीएसई

फीस       6000          36000

परिवहन    2000         20000

ट्यूशन       5000         35000 (तीन विषय)

अन्य संसाधन ---- 10,000

              13000 रुपये 101000 रुपये

(ये खर्चा सालाना औसत के आधार पर है। इससे ज्यादा या कम खर्च भी होता है।)

No comments:
Write comments