DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Tuesday, June 9, 2020

खुलासा : प्रयागराज में अनामिका के नाम से फर्रुखाबाद की रीना कर रही थी नौकरी

प्रयागराज में अनामिका के नाम से फर्रुखाबाद की रीना यहां कर रही थी नौकरी, पुलिस ने विद्यालय से मांगे अनामिका के दस्तावेज


शिक्षिका अनामिका, प्रमाणपत्र में रीना, पता सुप्रिया का 


 प्रयागराज : सोरांव के गोहरी स्थित कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय में फर्जी दस्तावेज के जरिए नौकरी पाने की आरोपित अनामिका शुक्ला को लेकर गुत्थी सुलझने का नाम नहीं ले रही। जिस पते का निवास प्रमाणपत्र कथित शिक्षिका अनामिका लगाया है, वह क्रमांक संख्या के आधार पर रीना का है और उस पर पता रजपालपुर लखनपुर, कायमगंज जिला फर्रुखाबाद दर्ज है।


एक ही प्रमाणपत्र पर प्रदेश के कई जिलों में कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालयों में नौकरी करने की आरोपी शिक्षिका अनामिका शुक्ला के खिलाफ करवाई करने के लिए कर्नलगंज पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस ने स्कूल से आरोपी शिक्षिका के दस्तावेज मांगे हैं, जिसको जब्त कर साक्ष्य एकत्र किया जाएगा। पुलिस ने बताया कि आरोपी शिक्षिका पहले से ही गिरफ्तार है, इसलिए इस मुकदमे में भी उसका रिमांड बनवाया जाएगा।


बीएसए ने रविवार को कर्नलगंज थाने में एफआईआर दर्ज कराई है कि अनामिका शुक्ला ने संविदा के आधार पर पूर्णकालिक विज्ञान शिक्षिका कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय विकास खंड, सोरांव में कूटरचित तरीके से शैक्षिक निवास प्रमाण पत्र तैयार कर नौकरी प्राप्त की थी। 


अनामिका शुक्ला पर आरोप है कि उसने वार्डन एवं कार्यालय को गुमराह कर विद्यालय में कार्यभार संभाल लिया लेकिन जब शैक्षिक अभिलेखों की मांग की गई तो वह उपलब्ध नहीं करा पाई। निवास प्रमाण पत्र की जांच की गई तो पता चला कि वह रीना के नाम से बना है। इससे खुलासा हो गया कि अनामिका शुक्ला ने नियुक्ति प्राप्त करने के लिए फर्जी निवास प्रमाण पत्र तैयार करके नियुक्ति पाई थी।

No comments:
Write comments