DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Thursday, July 15, 2021

प्रदेश के निजी विद्यालय आरटीआई के दायरे में : सूचना अधिकार अधिनियम के तहत मांगी गई सूचना देने के लिए होंगे बाध्य

प्रदेश के निजी विद्यालय आरटीआई के दायरे में : सूचना अधिकार अधिनियम के तहत मांगी गई सूचना देने के लिए होंगे बाध्य

निजी स्कूलों में जनसूचना अधिकारी तैनात हों : सूचना आयुक्त, खबर पढ़ें सबसे नीचे




राज्य सूचना आयुक्त प्रमोद कुमार तिवारी ने मुख्य सचिव उप्र शासन को संस्तुति की है कि जन सूचनाओं की महत्ता को देखते हुए निजी विद्यालयों के प्रबंधकों को भी जन सूचना अधिकारी घोषित करने की व्यवस्था करें।

उत्तर प्रदेश के सभी निजी विद्यालय सूचना अधिकार अधिनियम के दायरे में माने जाएंगी। राज्य सूचना आयुक्त प्रमोद कुमार तिवारी ने बुधवार को संजय शर्मा बनाम जन सूचना अधिकारी/मुख्य सचिव उप्र शासन की अपील के निस्तारण में यह व्यवस्था दी है। उन्होंने मुख्य सचिव उप्र शासन को संस्तुति की है कि जन सूचनाओं की महत्ता को देखते हुए निजी विद्यालयों के प्रबंधकों को भी जन सूचना अधिकारी घोषित करने की व्यवस्था करें।

अपीलार्थी संजय शर्मा ने लखनऊ के दो प्रतिष्ठित निजी विद्यालयों के विषय में आरटीआई एक्ट के तहत राज्य सूचना आयोग लखनऊ में द्वितीय अपील की थी। इसमें कहा गया था कि यदि निजी विद्यालयों की स्थापना के लिए रियायती दरों पर विकास प्राधिकरण भूमि उपलब्ध कराता है तो सर्वोच्च न्यायालय के डीएवी कॉलेज ट्रस्ट एंड मैनेजमेंट सोसायटी एवं अन्य बनाम डायरेक्टर ऑफ पब्लिक इंसट्रक्शन व अदर्स में प्रतिपादित विधि अनुसार विद्यालय राज्य से पर्याप्त रूप से वित्त पोषित समझे जाएंगे।

आयोग ने इस वाद में यह प्रतिपादित किया कि वर्ष 2009 में नि:शुल्क और अनिवार्य बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम के लागू होने के बाद ऐसे सभी स्कूल जो उपरोक्त अधिनियम से आच्छादित हैं। साथ ही वह अधिनियम एवं उप्र नि:शुल्क, अनिवार्य बाल शिक्षा अधिकार नियमावली-2011 के प्रपत्र-1 एवं 2 में वर्णित सूचनाएं जिला शिक्षाधिकारी को सूचनाएं देते हैं। ऐसी स्थिति में जिला शिक्षाधिकारी सभी सूचनाओं को आरटीआई एक्ट की धारा-6(1) के तहत मांगे जाने पर याची को देने के लिए बाध्य है। उल्लेखनीय है कि निजी विद्यालय सूचना का अधिकार अधिनियम-2005 के तहत इस आधार पर सूचना नहीं देते थे कि वे राज्य से वित्त पोषित नहीं हैं और अधिनियम की परिधि से बाहर हैं।



निजी स्कूलों में जनसूचना अधिकारी तैनात हों : सूचना आयुक्त

लखनऊ : राज्य सूचना आयुक्त द्वारा दी गयी व्यवस्था में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि यदि निजी विद्यालयों को विद्यालय की स्थापना के लिए रियायती दरों परविकास प्राधिकरण द्वारा भूमि उपलब्ध करायी गयी है तो सर्वोच्च न्यायालय द्वारा डीएवी कालेज ट्रस्ट एण्ड मैनेजमेंट सोसायटी एवं अन्य बनाम डायरेक्टर ऑफ पब्लिक इंन्सट्रक्शन एवं अदर्स में दी गयी व्यवस्था के अनुसारऐसे विद्यालय राज्य द्वारा पर्याप्त रूप से वित्त पोषित समझे जायेंगे । निजी विद्यालय सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के तहत इस आधार पर सूचना नहीं देते थे कि वे राज्य द्वारा वित्त पोषित नहीं है एवं वे अधिनियम की परिधि से बाहर हैं। 

राज्य सूचना आयुक्त ने 'हिन्दुस्तान' से बातचीत में बताया कि इस व्यवस्था के साथ ही उन्होंने मुख्य सचिव को एक पत्र भी लिखा है जिसमें उनसे अनुरोध किया गया है कि वह प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा को यह निर्देश दें कि वह ऐसे सभी निजी विद्यालयों के प्रबंधन में एक जनसूचना अधिकारी तैनात कराएं अपीलार्थी संजय शर्मा ने शासन से लखनऊ के दो प्रतिष्ठित निजी विद्यालयों में सूचना के अधिकार अधिनियम के तहत मांगी गयी जानकारी न दिये जाने पर आयोग में अपील दायर की थी। आयोग ने इस वाद में यह भी प्रतिपादित किया कि 2009 में निःशुल्क और अनिवार्य बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम के पारित होने के बाद ऐसे समस्त विद्यालय जो इस अधिनियम के दायरे में आते हैं, उनसे अपेक्षा है कि वे अधिनियम में वर्णित कुछ सूचनाएं जिला शिक्षाधिकारी को दें।


No comments:
Write comments