DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Saturday, July 16, 2022

सीएम योगी के सख्त निर्देश - गुणवत्ता विहीन संस्थानों को मान्यता मिली तो होगी कड़ी कार्रवाई

सीएम योगी के सख्त निर्देश - गुणवत्ता विहीन संस्थानों को मान्यता मिली तो होगी कड़ी कार्रवाई


सीएम योगी ने निर्देश दिए हैं कि गुणवत्ता विहीन और अधोमानक संस्थानों को मान्यता मिली तो कार्रवाई कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि नर्सिंग व पैरामेडिकल संस्थानों की गुणवत्ता का प्रमाणन जरूरी है।


उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिए हैं कि गुणवत्ता विहीन और अधोमानक संस्थानों को मान्यता मिली तो कार्रवाई कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि नर्सिंग व पैरामेडिकल संस्थानों की गुणवत्ता का प्रमाणन जरूरी है। अच्छे संस्थानों की पहचान करें और मेंटॉर-मेंटी मॉडल लागू करें। उन्होंने कहा कि नर्सिंग, पैरामेडिकल सेवा चिकित्सा व्यवस्था की रीढ़ हैं और कॅरियर में असीम संभावनाएं हैं।


मुख्यमंत्री शुक्रवार को नर्सिंग व पैरामेडिकल संस्थानों की गुणवत्ता सुधार के संबंध में समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने निर्देश दिए कि हर नर्सिंग व पैरामेडिकल संस्थान में हो कॅरियर काउंसिलिंग हो। हर संस्थान में मानकों का कड़ाई से अनुपालन कराया जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि सभी प्रशिक्षण संस्थानों में फैकल्टी पर्याप्त हो, अच्छी हो। सीएम ने निर्देश दिए कि पैरामेडिकल पाठ्यक्रमों के सुचारु संचालन व नियमन के लिए स्टेट मेडिकल फैकल्टी के तहत डेंटल काउंसिल, मेडिकल काउंसिल और नर्सिंग एंड मिडवाइफरी काउंसिल की भांति पैरामेडिकल काउंसिल का गठन किया जाए।


उन्होंने कहा कि कोरोना के बीच हम सभी ने सपोर्ट स्टाफ की महत्ता का करीब से अनुभव भी किया है। ऐसे में नर्सिंग व पैरामेडिकल के प्रशिक्षण को और व्यावहारिक बनाया जाना चाहिए। किसी भी संस्थान को संबद्धता, मान्यता प्रदान करने से पूर्व निर्धारित मानकों का कड़ाई से अनुपालन किया जाए। पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन किया जाना चाहिए। अधोमानक संस्थान को कतई मान्यता न दी जाए। मान्यता के लिए गठित टीम के सदस्यों की जवाबदेही भी तय की जानी चाहिए। जानकारी छिपा कर, गलत, आधी-अधूरी जानकारी के आधार पर मान्यता देने की अनुशंसा करने वाली टीम के सदस्यों के खिलाफ विधिपूर्वक कठोर कार्रवाई की जाए।


खास-खास
- नर्सिंग-पैरामेडिकल संस्थानों में सत्र नियमित हो
- समय पर दाखिला, समय से परीक्षा और तय समय सीमा के भीतर प्रमाण पत्र जारी हो
- सभी संस्थानों के लिए शैक्षिक गुणवत्ता-शैक्षिक सुविधाओं के स्तर का प्रमाणन हो
- क्वालिटी कंट्रोल ऑफ इंडिया सहित विभिन्न प्रतिष्ठित गुणवत्ता संस्थानों से निरीक्षण कराएं
- अच्छे संस्थानों की बेस्ट प्रैक्टिस-नवाचारों दूसरे संस्थानों में लागू करें
- संस्थान प्लेसमेंट पर विशेष फोकस करें
- प्रशिक्षणार्थियों के लिए कॅरियर काउंसिलिंग कराई जाए
- आर्मी मेडिकल कोर व बड़े चिकित्सा संस्थान के साथ विद्यार्थियों का समय-समय पर इंटरेक्शन कराया जाए
- जरूरत के अनुसार संस्थानों को एमओयू भी करना चाहिए।

No comments:
Write comments