DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Friday, July 22, 2022

निपुण भारत मिशन के प्रति जागरुकता कार्यक्रम 'यूपी है तैयार' संपन्न, उपमुख्यमंत्री ने दिया सुझाव - बच्चों को बेटा मानकर सिखाएं शिक्षक

निपुण भारत मिशन के प्रति जागरुकता कार्यक्रम 'यूपी है तैयार' संपन्न,  उपमुख्यमंत्री ने दिया सुझाव - बच्चों को बेटा मानकर सिखाएं शिक्षक


लखनऊ। मैं अपने शिक्षकों से हाथ जोड़कर प्रार्थना करता हूं कि वे बच्चों को अपना बेटा मानकर सिखाएं और एक-एक पर नजर रखें यह जरूरी नहीं कि सारे बच्चों की बुद्धि एक जैसी हो कोई बच्चा खराब नहीं होता। यह विचार रखे प्रदेश के उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने।


मौका था बृहस्पतिवार को गोमती नगर स्थित एक होटल में निपुण भारत मिशन के प्रति जागरूकता पैदा करने के लिए बनाई जा रही योजनाओं को लेकर आयोजित कार्यक्रम 'यूपी है तैयार' का कार्यक्रम को उपमुख्यमंत्री बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। अमर उजाला इस कार्यक्रम का मीडिया पार्टनर रहा।


उपमुख्यमंत्री ने शिक्षकों से कहा कि आने वाली पीढ़ी हमारी पूंजी है, इस जिम्मेदारी को समझें। जो आज पढ़ाया है, बच्चे से पूछें कि समझ में आया या नहीं। उन्होंने कहा कि प्रगति की अंधी दौड़ में हमने अंकतालिका को सबकुछ मान लिया है। पहले जिस बच्चे का 60 प्रतिशत आता था पूरे गांव में ढोलक बजती थी, लड्डू बंटते थे कि बच्चा फर्स्ट क्लास पास हो गया है। अब फर्स्ट क्लास पाने वाला रोता है। यह स्थितियां हमने खुद तैयार की हैं। बेसिक शिक्षा विभाग आधुनिक भारत निर्माता की भूमिका में है। 


बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) संदीप सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के सबसे महत्वपूर्ण प्रावधान फाउंडेशन लिट्टेसी एंड न्यूमरेसी के लक्ष्य की प्राप्ति के लिए यह कार्यक्रम आयोजित किया गया है। निपुण भारत मिशन का जो लक्ष्य लिया है, इसके अंतर्गत अब मिशन प्रेरणा को इसमें समायोजित कर दिया गया है।


एफएलन शुरू करने वाला उत्तर प्रदेश पहला राज्य

नई शिक्षा नीति के तहत निपुण भारत मिशन 2026 तक कक्षा एक से तीन तक के बच्चों को फाउंडेशनल, लिट्रेसी व न्यूमरेसी (एफएलएन) कौशल प्राप्त करने व सक्षम बनाने पर ध्यान केंद्रित करता है। उत्तर प्रदेश पहला राज्य है, जिसने एफएलन मिशन शुरू किया है। यूएस एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट (यूएसएआईडी) और केयर ने इस आयोजन को समर्थन दिया है। सेंट्रल स्क्वायर फाउंडेशन, लैंग्वेज एंड लर्निंग फाउंडेशन, समग्र डवलपमेंट एसोसिएट्स विक्रमशिला सोसाइटी जैसे कई स्वयं सेवी संगठनों ने भी आयोजन में योगदान दिया।

मिशन के उददेश्यों की दी जानकारी

सेंट्रल स्क्वायर फाउंडेशन के संस्थापक, व अध्यक्ष आशीष धवन ने निपुण भारत मिशन के मॉड्यूल व उद्देश्यों के बारे में बताया यूएसएआईडी की उप निदेशक डॉ. पूनम स्मिथ श्रीन ने कहा कि आवश्यक कौशल के साथ तैयार किए गए बच्चे परिवार, समुदायों और देश के लिए प्रगति करेंगे। दूसरे सत्र में दो परिचर्चाओं का आयोजन हुआ।

No comments:
Write comments