DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Sunday, May 3, 2020

यूपी बोर्ड मूल्यांकन केंद्र पर कॉपी जांचने नहीं जाएंगे शिक्षक

यूपी बोर्ड : ग्रीन और ऑरेंज जोन में होगा मूल्यांकन, शिक्षक नेताओं ने शुरू किया विरोध



यूपी बोर्ड मूल्यांकन केंद्र पर कॉपी जांचने नहीं जाएंगे शिक्षक 
लखनऊ : यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की कॉपियों का मूल्यांकन पांच मई से शुरू होना है लेकिन शिक्षक इसका विरोध कर रहे हैं। शिक्षकों ने मूल्यांकन केंद्र पर जाकर कापियां जांचने की बजाय उन्हें घर पर भेजने की मांग की है। कहना है कि बढ़ते संक्रमण के चलते लॉक डाउन का तीसरा चरण शुरू हो चुका है और हर दिन मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है इसके बावजूद शिक्षकों को मूल्यांकन के लिए बुलाया जा रहा है। राजकीय शिक्षक संघ के अध्यक्ष पारसनाथ पांडेय का कहना है कि मूल्यांकन केंद्र पर जाकर कॉपी जांचना जोखिम भरा होगा।सार्वजनिक परिवहन पूरी तरह बन्द रहेगा।

 
मूल्यांकन के पहले ही विरोध जागरण संवाददाता, प्रयागराज : उप्र माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) से हुई हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षाओं की कॉपियों का मूल्यांकन पांच मई से शुरू करने के आदेश पर उप्र माध्यमिक शिक्षक संघ ने रोष जताया है। संघ ने कहा है कि देश में संक्रमण का प्रभाव बढ़ रहा है। केंद्र ने लॉकडाउन 17 मई तक कर दिया है। ऐसे में उप्र में मूल्यांकन पांच मई से शुरू करें का आदेश व्यावहारिक, एकपक्षीय है। संघ के प्रदेश महामंत्री लालमणि द्विवेदी ने डिप्टी सीएम के नाम पत्र भेजकर अपना आक्रोश जताया है।

ग्रीन, ऑरेंज जोन में होगा मूल्यांकन यूपी बोर्ड

यूपी बोर्ड की कॉपियों का मूल्यांकन ग्रीन जोन वाले जिलों में शुरू हो सकता है। शुक्रवार को लॉकडाउन की अवधि बढ़ने से पहले ही प्रदेश सरकार ने 5 मई से मूल्यांकन शुरू करने का आदेश जारी कर दियाथा। हालांकि लॉकडाउन बढ़ने के कारण असहज स्थिति पैदा हो गई है। ऐसे में बोर्ड के अधिकारी और कर्मचारी 5 मई से उन जिलों में कॉपियों का मूल्यांकन कराने पर विचार कर रहे हैं जिन्हें ग्रीन या ऑरेंज जोन में रखा गया है। यहां बहुत अधिक प्रतिबंध नहीं है। माध्यमिक शिक्षक संघ ठकुराई गुट के मूल्यांकन शुरू करने का विरोध किया है। संगठन के प्रदेश महामंत्री लालमणि द्विवेदी का कहना है कि 17 मार्च को जब मूल्यांकन स्थगित किया गया तो

प्रदेश में 13 कोरोना संक्रमित थे, आज यह संख्या 2300 तक पहुंच चुकी है। ऐसे में मूल्यांकन का निर्णय अव्यावहारिक और परिस्थितियों के विपरीत है। गौरतलब है कि हाईस्कूल और इंटर की 3 करोड़ से अधिक कॉपियों के मूल्यांकन के लिए सभी 75 जिलों में 275 केंद्र बनाए गए हैं।

यूपी बोर्ड : ग्रीन और ऑरेंज जोन में होगा मूल्यांकन, शिक्षक नेताओं से शुरू किया विरोध। 


यूपी बोर्ड की कॉपियों का मूल्यांकन ग्रीन जोन वाले जिलों में शुरू हो सकता है। शुक्रवार को लॉकडाउन की अवधि बढ़ने से पहले ही प्रदेश सरकार ने 5 मई से मूल्यांकन शुरूकरने का आदेश जारी कर दियाथा। हालांकि लॉकडाउन बढ़ने के कारण असहजस्थिति पैदा हो गई है। ऐसे में बोर्ड के अधिकारी और कर्मचारी 5 मई से उन जिलों में कॉपियों का

शिक्षक नेताओं ने मूल्यांकन शुरू करने का किया विरोध प्रयागराज। शिक्षक विधायक सुरेश त्रिपाठी ने 5 मई से मूल्यांकन शुरू करने का विरोध किया है। सचिव यूपी बोर्ड को पत्र भेजकर उन्होंने कहा है कि कई जिले रेड जोन में हैं। वहां शिक्षकों के आने-जाने में बाधा होगी। राजकीय शिक्षक संघ के प्रदेश महामंत्री रवि भूषण ने भी बोर्ड सचिव को पत्र लिखकर लॉकडाउन तक मूल्यांकन स्थगित रखने की मांग की है। मूल्यांकन कराने पर विचार कर रहे हैं जिन्हें ग्रीन या ऑरेंज जोन में रखा गया है। यहां बहुत अधिक प्रतिबंध नहीं है। माध्यमिक शिक्षक संघठकुराई गुट के मूल्यांकन शुरू करने का विरोध किया है। संगठन के प्रदेश महामंत्री लालमणि द्विवेदी का कहना है कि 17 मार्च को जब मूल्यांकन स्थगित किया गया तो


प्रदेश में 13 कोरोना संक्रमित थे, आज यह संख्या 2300 तक पहुंच चुकी है। ऐसे में मूल्यांकन का निर्णय अव्यावहारिक और परिस्थितियों के विपरीत है। गौरतलब है कि हाईस्कूल और इंटर की 3 करोड़ से अधिक कॉपियों के मूल्यांकन के लिए सभी 75 जिलों में 275 केंद्र बनाए गए हैं।


No comments:
Write comments