DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Monday, June 8, 2020

अनामिका शुक्ला की डिग्री पर साइंस पढ़ा रही थी बीए पास सुप्रिया जाटव

अनामिका शुक्ला की डिग्री पर साइंस पढ़ा रही थी बीए पास सुप्रिया

न अनामिका, न प्रिया,  असली नाम सुप्रिया,  मैनपुरी के मास्टरमाइंड ने दिलाई पैसे के बदले फर्जी नियुक्ति


कासगंज के कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में 25 स्कूलों में अनामिका शुक्ला के नाम से नौकरी करने वाली शिक्षिका का असली नाम सुप्रिया सिंह है। सुप्रिया फर्रुखाबाद जिला निवासी किसान महिपाल सिंह की दूसरे नंबर की बेटी है। शनिवार को हुए खुलासे के बादसे कायमगंज के ब्लॉक नवाबगंज के रजपालपुर गांव में रहने वाला परिवार दहशत में है। रविवार को मीडिया के सामने आए महिपाल ने धोखाधड़ी के संजाल की कई परतें उजागर की। 


मैनपुरी के एक मास्टर माइंड ने दिलाई राजकीय इंटर कॉलेज से इंटरमीडिएट कायमगंज में शकुंतला देवी कॉलेज नौकरी : महिपाल के मुताबिक उनकी से बीए किया है। सुप्रिया ने बीएससी या कि दो पुत्रियां प्रतिभा और सुप्रिया हैं। बीएड की पढ़ाई नहीं की है। बीए करने बड़ी बेटी प्रतिभा हाई स्कूल करने के के दौरान उसकी दोस्ती मैनपुरी निवासी बाद पढ़ाई छोड़कर घर बैठी है। छोटी नीतू नाम के युवक से हो गई, वह उसे बेटी सुप्रिया ने ग्राम भटासा के प्रदर्शन कंपिल में मिला था।


लखनऊ : अनामिका शुक्ला के शैक्षिक दस्तावेजों से अलग-अलग जिलों में नौकरी कर रही सभी युवतियां तो अभी सामने नहीं आई हैं, लेकिन मामले में धांधली की कई कथाएं जरूर सामने हैं। कासगंज में शनिवार को पकड़ी गई प्रिया जाटव के मामले में नई बात यह है कि उसने बीए किया था और साइंस के बच्चों को पढ़ा रही थी। उसके पिता ने उसका नाम सुप्रिया बताया है।



प्रिया जाटव कायमगंज के रजपालपुर गांव की निवासी है। रविवार को दैनिक जागरण के संवाद सहयोगी ने रजपालपुर में उसके पिता महीपाल से बात की। उन्होंने बताया कि उनकी छोटी बेटी सुप्रिया ने ग्राम भटासा के रामदर्शनी राजकीय कालेज से इंटर और कायमगंज के शकुंतला देवी कालेज से बीए किया है। बीएससी या बीएड की पढ़ाई नहीं की। 


मैनपुरी निवासी अध्यापक नीतू ने नौकरी लगवाने के नाम पर डेढ़ लाख रुपये तय किए थे। उसी ने सुप्रिया की कासगंज में नौकरी लगवाई। खुद को कंपिल में तैनात बताने वाला नीतू घर आया था। उसने एडवांस में पचास हजार रुपये लिए थे। बाकी एक लाख रुपये सुप्रिया का वेतन मिलने पर लेता रहा। 



करीब एक वर्ष से उनकी पुत्री कासगंज में रह रही थी। लॉकडाउन में गांव आ गई थी। जब उसे नीतू की धोखेबाजी का पता लगा तो शनिवार को अपने भाई संघरत्न के साथ इस्तीफा देने कासगंज गई थी, जहां उसे पकड़ लिया गया। देर शाम पुलिस ने सुप्रिया के घर छापा भी मारा और कुछ दस्तावेज ले गई।

No comments:
Write comments