DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Friday, September 9, 2022

जू. हाईस्कूल शिक्षक भर्ती परीक्षा - 2021: अभ्यर्थी को दर्शा दिया था अनुपस्थित, अब उत्तीर्ण, संशोधित परिणाम ने खोले शिक्षक बनने के दरवाजे

जू. हाईस्कूल शिक्षक भर्ती परीक्षा - 2021: अभ्यर्थी को दर्शा दिया था अनुपस्थित, अब उत्तीर्ण

● संशोधित परिणाम ने खोले शिक्षक बनने के दरवाजे

● उपस्थिति - अनुपस्थिति में भी किया गया था खेल

अशासकीय सहायता प्राप्त (एडेड) जूनियर हाईस्कूल शिक्षक भर्ती परीक्षा 2021 के संशोधित परिणाम ने इसमें हुई अंधेरगर्दी को बेपर्दा कर दिया है। सहायक अध्यापक के 1504 और प्रधानाध्यापक के 390 पढ़ें पर भर्ती के लिए कराई इस परीक्षा में 132 अभ्यर्थियों को कम अंक दिया जाना तो फिल्म के ट्रेलर भर जैसा था, इसके आगे की कहानी तो मंगलवार को संशोधित परिणाम घोषित किए जाने के बाद सामने आई है। पहले (15 नवंबर 2021) घोषित किए गए परिणाम में सहायक अध्यापक पद पर एक ऐसे अभ्यर्थी को अनुपस्थित दर्शा दिया गया था, जो न सिर्फ परीक्षा में शामिल हुआ था, बल्कि उत्तीर्ण भी था।



संशोधित परिणाम में उसकी ओएमआर शीट मूल्यांकित किए जाने पर अब उत्तीर्ण घोषित हुआ है। इससे वह अब शिक्षक बनने की रेस में शामिल हो गया है उपस्थित और अनुपस्थित दर्शाने के खेल की कहानी इससे भी आगे है।

17 अक्टूबर, 2021 को कराई गई इस परीक्षा का परिणाम 15 नवंबर को घोषित किया गया था। तब 571 अभ्यर्थियों ने प्रत्यावेदन देकर शासन से शिकायत की थी, उन्हें कम अंक दिया गया है। साक्ष्य के तौर ओएमआर शीट की प्रति भी संलग्न की थी। शासन ने जांच कराई तो पाया कि 132 अभ्यर्थियों को कम अंक दिए गए हैं।

यह गड़बड़ी सामने आने के बाद शासन के निर्देश पर उत्तर प्रदेश परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव अनिल भूषण चतुर्वेदी ने पूर्व घोषित परिणाम का पुनर्मूल्यांकन कराया। बुधवार को संशोधित परिणाम वेबसाइट पर अपलोड कर दिया गया। सचिव ने पूर्व और संशोधित परिणाम का तुलनात्मक विवरण जारी किया तो कई और चौंकाने वाली गड़बड़ियां सामने आई हैं। सहायक अध्यापक पद की परीक्षा में पूर्व घोषित परिणाम के मुताबिक 64,421 अभ्यर्थी अनुपस्थित थे। अब संशोधित परिणाम में यह संख्या एक घटकर 64,420 हो गई है। यानी कि पहले अनुपस्थित दर्शाए गए अभ्यर्थी को उपस्थित माना गया है। इसी तरह प्रधानाध्यापक पद पर पूर्व घोषित परिणाम में 4,631 अभ्यर्थी अनुपस्थित थे। अब संशोधित परिणाम में 4,628 अनुपस्थित हो गए हैं।

"सहायक अध्यापक पद के लिए जिस एक परीक्षार्थी को पहले अनुपस्थित दर्शाया गया था, वह उपस्थिति शीट से मिलान करने पर उपस्थित था। पूर्व में यह मिलान नहीं किए जाने से गड़बड़ी हुई थी। जारी किए संशोधित परिणाम में वह अभ्यर्थी उत्तीर्ण घोषित हुआ है।"

अनिल भूषण चतुर्वेदी, सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी, उत्तर प्रदेश

No comments:
Write comments